1.स्मार्टफोन की तरह लैपटॉप में स्क्रीन बैटरी का बड़ा हिस्सा खाती है। जो कि लैपटॉप की बटरी कमजोर बनाती है। जितना हो सके ब्राइटनेस लेवल कम से कम रखिए। अगर जरूरत न हो, तो कीबोर्ड की बैकलाइट भी ऑफ कर दीजिए। इससे आपकी बटरी मजबूत रहेगी।

2. यूएसबी पोर्ट में लगे एक्सटर्नल डिवाइसेज़ लैपटॉप की बैटरी से ही पावर लेते हैं। इससे ज्यादा बटरी खपत होती है जरूरत न हो, तो इन्हें लैपटॉप से निकाल दीजिए।

3. लैपटॉप के ज्यादा गर्म होने की वजह से इंटरनल फैन्स को ज्यादा तेज चलना पड़ता है, जिससे बैटरी लैपटॉप की ज्यादा खर्च होती है। अधिकतर लैपटॉप कूलिंगपैड भी लैपटॉप से ही पावर लेते हैं। जहां तक कोसिस करें लैपटॉप को ठंडी जगह पर रखिए। कोशिश करिए कि लैपटॉप का ज्यादातर हिस्सा (खासकर निचला हिस्सा) हवा के संपर्क में रहे।

4. स्टैंडबाई की जगह अपने लैपटॉप को हाइबरनेट करिए। हाइबरनेशन में आपका लैपटॉप जैसे ही रहेगा और स्लीप मोड में चला जाता है और बैटरी बचाता है।

5. विंडोज़ पर चलने वाले लैपटॉप में बिल्ट-इन पावर प्लान सेटिंग होती है। जिसे आप यहां कई चीजें चुन सकते हैं, जैसे कि डिस्प्ले, हार्ड डिस्क और यूएसबी पावर कब ऑफ हों ये सब आप देख सकते है।

6. इंटरनेट पर बैटरी से जुड़े कई ऐप्लिकेशन मौजूद हैं। आप कोई अच्छा एप्पलीकेशन चुनिए और  ये बैटरी डिस्चार्ज साइकल बताते हैं। ये सीपीयू और हार्डड्राइव का टेंपरेचर भी बताते हैं, जिससे ओवरहीटिंग का पता चलता रहता है।

7.स्क्रीन को डिम करके रखे ज्यादातर लैपटॉप पर ब्राइटनेस सबसे ज्यादा होने के कारण बैटरी की चार्ज काम हो जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here