Home Applications जानिए कैसे कम होगा आपके घर के मीटर का बिल अब अपने...

जानिए कैसे कम होगा आपके घर के मीटर का बिल अब अपने पंखे की स्पीड कम करने से होगी बिजली की बचत

0
7

 

हम लोग जब भी बिजली का बिल देखते है तो टेंशन मैं आजाते है When we see electric bill we come in tension  लेकिन बिजली ऐसी जरूरत है जिसपर लगाम लगाना चाह कर भी थोड़ा मुश्किल हो जाता है.

बिना पंखे के गर्मी के कारन रात में नींद नहीं आती है,  हमलोगो को बिजली बचाने के लिए हमे पंखा कम यूज़ करना चाहिए जब हमलोग रूम मैं न रहे तो पंखा बंद कर देना चाहिए . पंखे के स्पीड हमारे बिल पर असर डालती है किआ ऐसा लोगो का मानना है.

 तो चलिए आज हम लोग मिलकर इस सवाल का जबाब ढूंढ़ते है. लेकिन आज के दौर मै बिजली के बिना रहना मुश्किल है क्यों के ज्यादा तर हर काम बिजली से ही होता है. इलेक्ट्रिक बिल जब भी आता है तो ज्यादा बिल अमाउंट देख कर परेशां हो जाता है. जब थोड़ा आराम भी करने जाओ तो बिना पंखे के नींद नहीं आती.

बिजली की बचत इलेक्ट्रिक रेग्युलेटर से होगी किआ 

आप ने कभी नोटिस किआ होगा पहले जो इलेक्ट्रिक रेग्युलेटर इस्तेमाल होते थे पहले के टाइम मैं हमारे घरों में इलेक्ट्रिक रेग्युलेटर (Electric Regulator) हुआ करते थे, जो वोल्टेज को घटा कर सप्लाई किये जाते है उसकी स्पीड काम कर देते है लेकिन रेग्युलेटर जो एक प्रतिरोधक के तौर पर काम करता था इस तरह पंखे में तो बिजली की खपत कम होती थी इस तरह पुराने रेग्युलेटर के साथ पंखे जो की जयादा स्पीड करने से बिजली की बचत पर कुछ जयादा असर नहीं पड़ेगा लेकिन उस बक्त काफी सस्ता यूनिट होता था लेकिन आज के इस दौर मैं बिजली का बिल बहुत महंगा हो गया है.

क्या बिल पर असर डालती है स्पीड?

आपकी  सीलिंग फैन की स्पीड रेग्युलेटर से कंट्रोल की जा सकती है (Save Electricity At Home), वहीं टेबल और पैडेस्टल फैन्स में इनबिल्ट स्पीड कंट्रोलर होते हैं. और हमलोगो के घरो पर सीलिंग और टेबल फैन और अन्य फैंस भी होता है जो की ज्यादा यूज़ होते है.सीलिंग फैन की स्पीड रेग्युलेटर से कंट्रोल की जा सकती है (Save Electricity At Home), इसमें तो आपको पता ही है रेसिस्टर पंखे के स्पीड बढ़ाने या घटाने से बिजली की खपत से कोई सम्बन्ध नहीं होता था.

कामगार है इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर

इन सब का  रेग्युलेटरों का रिजल्ट काफी अच्छा रहता है. जोकि आजकल के घरों में इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर (Electronic Regulator) इस्तेमाल किए जाते हैं.

पहले के टाइम मैं पुराने इलेक्ट्रिकल रेग्युलेटर में बर्बाद होती थी बिजली

अगर आपके घर में भी ऐसा है और आप बिजली बिल में बचत करना चाहते हैं तो इन पुराने रेग्युलेटरों को हटाकर जल्दी से इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर लगवा लीजिए.

बिजली की खपत से ही पंखे की स्पीड से तय होती है

एक दिन में जो खर्च होती है इतना सारा बिजली इसी तरह पंखा अगर कम स्पीड से चलेगा तो बिजली की खपत कम होगी. नए नए इस दौर मैं इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर में इलेक्ट्रिसिटी की खपत का पंखे की स्पीड जैसी होगी। आप जितना स्पीड चलाएंगे उतना ही स्पीड से बिजली खर्चा होगा।

अगर आपके पंखे की स्पीड रेगुलर चलेगी तो एक दिन मैं इतना सारा बिजली खता है

अगर आपको अगर जैसे के दो या चार पंखे सबसे तेज मैं चलाते है तो आप समझ लीजिए करीब एक दिन मैं ४ या पांच बिजली की खपत करेंगे। आपको अगर बिजली बचानी है तो पंखे की स्पीड से १.५ यूनिट बचा सकते है.  यहां आपको यह जानना जरूरी है कि एक दिन में एक पंखा कितनी बिजली की खपत करता है. दरअसल इन दौरान बाजार में 60 वाट के पंखे अधिक मिल रहे हैं. अगर इस हिसाब से एक ६० वाट का पंखा या हर दिन मैं १८ घंटे चलता है तो यह १०८० वाट बिजली मैं खपत करता है.अगर हम मिडिल क्लास के की बात करे तो एक घर मैं काम से काम चार पंखे होते है. अगर आप इस चारो पंखो को सबसे तेज चलेगा तो मुझे आएसा लगता है 5 यूनिट बिजली की खपत करेंगे।

 

 

 

 

 

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here